Router क्या है और यह कैसे काम करता है ?

Router क्या है और यह कैसे काम करता है ?

Router क्या है? यदि आप Router के बारे में जानना चाहते हैं, तो हमेशा की तरह इस पोस्ट पर बने रहिए. आज हम आपको राउटर क्या है और अन्य Router के बारे मे जानकारी देंगे.

Wifi Router और राउटर Type के बारे में आप सभी जानते होंगे लेकिन क्या आपको यह भी पता है कि राउटर क्या है (What is Router in Hindi)? इसके कितने प्रकार होते है? और इसका कैसे उपयोग करें?

यदि आप Router के बारे में नहीं जानते हैं तो आज इस पोस्ट में आपके अच्छे तरीके से समझ में आ जाएगा. आपने राउटर को तो बहुत सी जगह देखा होगा. आजकल हर दुकान में Internet के लिए Router का प्रयोग किया जाता है.

अब आपके दिमाग में एक सवाल आ रहा होगा कि Router का काम क्या होता है. Router एक Post मेन की तरह कार्य करता है. पोस्ट मैन हर रोज नए-नए घरो में पत्र पहुंचाने का कार्य करता है. इसी तरह Router भी डाटा को Receiver तक पहुंचाने का कार्य करता है.

राउटर क्या है in Hindi

Router एक हार्डवेयर नेटवर्किंग यंत्र होता है जिसका उपयोग Network के लिए किया जाता है. जब भी कोई व्यक्ति डाटा को एक नेटवर्क से दूसरे Network में भेजता है तो वह नेटवर्क में Packet के रूप में जाता है.

यह भी पढ़ें-

1.Tesla Company क्या है और यह क्या काम करती है ?

2.Router क्या है और यह कैसे काम करता है ?

3.Motherboard क्या है और इसके कितने प्रकार होते है ?

तभी Router पैकेट डाटा को प्राप्त करता है. डाटा पैकेट में किसी भी छिपी जानकारी का विश्लेषण करने के बाद गंतव्य डिवाइस को भेजता है. इस तरह की नेटवर्किंग Device का उपयोग विभिन्न प्रकार के नेटवर्क को Wireless तरीके से जोड़ने के लिए किया जाता है.

इस पर और क्या कार्य कर सकते हैं ?

Router ओएसआई मॉडल के 7 लेयर में से Network लेयर पर काम करता है. यह उपकरण software और Hardware दोनों से मिलकर बना होता है. राउटर के अंदर CPU, मेमोरी स्टोरेज, ऑपरेटिंग system आदि Port होते हैं. इस तरह के Oprating सिस्टम विंडोज की तरह नहीं होते हैं.

राउटिंग टेबल और एल्गोरिदम के माध्यम से यह पता चलता है कि पैकेट प्राप्त हुआ है. इस पैकेट को भेजने के लिए जिस डिवाइस का उपयोग किया जाता है उसे एनालाइज कहा जाता है.

Router कैसे कार्य करता है ?

राउटर पैकेट को एक नेटवर्क से दूसरे नेटवर्क पर अग्रेषित करने का कार्य करता है. उसको आप साधारण भाषा में कह सकते हैं कि यह Packet को स्रोत के पत्ते तक भेजता है.

जब आप अपने साथी को कोई मैसेज Send करते हैं तो वह Message एक पैकेट के रूप में परिवर्तित हो जाता है .फिर वह पास के राउटर तक पहुंचता है. इसके बाद Router रूटिंग प्रोटोकॉल टेबल की जांच करता है.

Routing Table में सभी Router IP पत्ते व रास्ते की दूरी पास में होती है जिसमें रिसीवर का IP Adderss रखा जाता है. जब पैकेट अगले राउटर तक पहुंच जाता है तो फिर यह सबसे छोटे रास्ते का भी पता कर लेता है. इस तरह राउटर पैकेट को एक राउटर से दूसरे Router तक भेज देता है.


Router के घटक (Components)

जैसा कि आप जानते हैं इस Post मे जिसकी जानकारी दी गई है यह एक विशेष Computer है जिसके अलग-अलग भाग होते हैं.

(1) Ram :

जब राउटर को On किया जाता है तो राउटर का oprating system Ram मे लोड होता है. इसके बाद Router अपने रूट को निर्धारित करता है. यह अन्य राउटर में BGP, EIGRP की Information को Chake करता है.

राइटिंग टेबल, राउटिंग में ट्रिक्स, एआरपी टेबल आदि को DATA को रैम में स्टोर करता है. Routing Table और Routing Metrics पैकेट Forwarding प्रोसेस speed में मदद करते हैं.

(2) Console :

Router को Configuring और प्रबंधित करने का पूरा कार्य Console ही करता है. समस्या के निवारण आदेश कंसोल से ही प्राप्त किए जाते हैं.

(3) Flash Memory :

सभी प्रकार के इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस को एक मेमोरी की आवश्यकता होती है जिसके अंदर उसका Opreating System संग्रहित हो रहता है.

यदि हम Computer के साथ फ़्लैश मेमोरी की तुलना करें तो यह एक प्रकार का Hardware होता है. इस मेमोरी में Routing प्रोटोकॉल, राउतिंग Table, राउटिंग एल्गोरिदम आदि को स्टोर किया जाता है.

(4) Non- Volatile RAM :

इस मेमोरी के नाम से ही समझ गए होंगे कि यह Memory परमानेंट है. इसके अंदर Start up वजन और oprating system स्टोर रहता है. जब भी Router को हम बुट करते हैं तो इस मेमोरी में Program लोड होता है.

(5) Network Interface :

Router मे बहुत से नेटवर्क इंटरफेस होते हैं. Operating System में भी बहुत सारे ड्राइवर शामिल होते हैं. इन Driver का फायदा यह है कि इससे Router को पता चल जाता है कि कौनसा Port किस Network से जुड़ा है. यह Router दूसरे राउटर से भी रास्ता का पता कर लेता है और यह पैकेट को सही मार्ग पर भेजते हैं.

(6) Center Processing Unit :

सीपीयू Router का दिमाग होता है. इस एक विशेष Software OAS से operate किया जाता है. Cisco IOS, Junos, Run, Juniper Router OAS के भाग है जो कि Router को चलाते हैं. OAS opreating system Router के सभी घटकों को Manages करता है.

Router के प्रकार –

यदि आप किसी Shop या Market में जाते हैं तो वह आपको कई तरह के Router देखने को मिल जाएंगे. उसको उनके कार्य और speed के हिसाब से अलग-अलग विभाजित किया गया है.

1.BoradBand Router:

ब्रॉडबैंड राउटर कई तरह से कार्य करते हैं. इस तरह के Router का उपयोग Computer को जोड़ने और Internet से जोड़ने के लिए किया जाता है.

अगर आप अपने फोन को Voice Over IP टेक्नोलॉजी के जरिए इंटरनेट से जोड़ना चाहते हैं तो आपको पता चल जाना चाहिए कि आपने इस VOIP कनेक्शन के लिए Broadband का उपयोग किया है. इस तरह के राउटर विशेष प्रकार के होते हैं जिनको Phone Jacks और Ethernet भी कहते हैं.

2. Wireless Router:

इस तरह के राउटर को आजकल हर कोई जानता है. बहुत से लोग इनको घर, school, office में काम में लेते हैं. वर्तमान समय में यही Router Internet को एक्सेस कर रहे हैं.

वायरलेस Router एक तरह का चित्र बनाता है.इस क्षेत्र में हम phone, laptop, Computer और अन्य wireless उपकरण मे Internet का उपयोग कर सकते हैं.

सभी Router में उनकी security के लिए एक पासवर्ड होता है. Password और IP address का उपयोग उनकी सुरक्षा के लिए किया जाता है. आपके पहले एक पासवर्ड डालने पर ही उससे जुड़ सकते हैं. यह Wifi का Security Feature होता है.

राउटर के कार्य-

1. यह Local Aerya Network प्रसारण को रोकता है.

2. यह डिफॉल्ट Geteway की तरह कार्य करता है.

3. प्रोटोकॉल अनुवाद में मदद करता है.

4. नेटवर्क के बीच एक रास्ता बनाने का कार्य करता है.

5. प्रेक्षक से रिसीवर तक DATA को पहुंचाता है.

6. दो नेटवर्क को आपस में जोड़ने का कार्य करता है.

7. यह सरल मार्ग बनाता रहता है.

8. पैकेट को User तक ले जाने के लिए छोटा मार्ग खोजता है.

क्या सीखा ?

इस पोस्ट में हमारे द्वारा बताया गया है कि राउटर क्या है-what is Router in Hindi? आपने राउटर के बारे में विस्तार से जान लिया होगा.

हमें आशा है कि इस पोस्ट को पढ़ने से आपको राउटर के बारे में पूरी जानकारी समझ में आ गई होगी. अब आपको Router के उपयोग में कोई भी परेशानी नहीं होने वाली है.

आपसे एक उम्मीद है कि आप इस पोस्ट को अपने दोस्त, facebook, group और अन्य सभी मित्र और सोशल मीडिया पर शेयर कर उन तक पहुंचाएं.

यदि अगर आप कुछ भी बात और पहुंचना चाहते हैं तो हमें कमेंट के माध्यम से पूछ सकते हैं.

Leave a Comment