Network क्या है और इसके कितने प्रकार होते है ?

Network क्या है और इसके कितने प्रकार होते है ?

क्या आप जानते हैं Network क्या है और इसके कितने प्रकार हैं? पहले के समय में लोग बातचीत करने के लिए तार के माध्यम से संदेश भेजते थे. इस तरह के संदेश भेजने में बहुत समय लग जाता था.

इस तरह के संदेश भेजने में दूर-दूर तक जाने, पहचान का पता नहीं होना आदि समस्याओं का सामना करना पड़ता था. इसमें पहचान के रूप में गाने, वीडियो, फोटो और Text Message हो सकता है.

एबेक्स के समय से ही Networking था. उस समय में अध्यक्ष का उपयोग मैसेज भेजने के लिए उपयोग किया जाता था. लेकिन वही Abacus आज Computer के रूप में बदल गया. आज भी उसका रूप प्रयोग हो रहा है.

Network क्या है in Hindi ?

जब दो या दो से अधिक Computer को एक साथ जोड़ दिया जाए तो उसे Network कहते हैं. आप उनको Wireless या Wire के माध्यम से जोड़ सकते हैं.

यदि हम वायर के मीडियम की बात करें तो यह ट्विस्टेड पेयर केबल, कोएक्सियल केबल और फाइबर ऑप्टिकल केबल में से कोई भी हो सकता है.

Also Read……

1.Web Hosting क्या है और यह कैसे काम करता है ?

2.Keyboard क्या होता है और इसके कितने प्रकार होते है ?

3.Tesla Company क्या है और यह क्या काम करती है ?

Wireless की बात करें तो यह रेडियो वेव, इंफ्रारेड, wifi, सेटेलाइट में से एक हो सकता है.

Network एक सभी Computer, Network devices, मेनफ्रेम नेटवर्क उपकरण सर्वर का एक संग्रह होता है जिसमें डाटा को भेजने का कार्य होता है. Internet Network का एक सबसे अच्छा उदाहरण है.

जहां पर हर समय बहुत से लोग जुड़े रहते हैं और Data को सांझा करते हैं. मॉडेम, Router, डोंगल जैसे Networking डिवाइस नेटवर्क में प्रयोग किए जाते हैं.

नेटवर्क का इतिहास- History of Network

हम इस समय में जिस Network की बात कर रहे हैं वह कई साल पहले 1960 में शुरू हो गया था.

नेटवर्क का दूसरा नाम ARPANET है जिसका पूरा नाम एडवांस रिसर्च प्रोजेक्ट एजेंसी नेटवर्क (Advance Research Project Ajency Network) है.

शुरुआती दौर में Network का उद्देश्य रिमोट जॉब प्रवेश स्टेशनों और टर्मिनलो को मेनफ्रेम जोड़ना था.

उस समय में ARPANET के पास संसाधन सांझा करने की अवधारणा को रखने की एक बुनियादी अवधारणा थी।

ARPANET उस दरवाजे मे काफी विश्वसनीय थे क्योंकि इसमें सर्किट स्विचिंग के बजाय पैकेट स्विचिंग तकनीकी का उपयोग किया गया था.

अमेरिकी रक्षा विभाग ARPANET का उपयोग करता था जिससे कि गुप्त जानकारियों को भेजा जा सके. अमेरिका में इसका उपयोग विश्वविद्यालयों को जोड़ने में किया गया.

उद्योगपति भी धीरे-धीरे इसका उपयोग करने लग गए. इसका विकास धीरे-धीरे बढ़ता गया. आज के समय का यह सबसे बड़ा Network बन गया जिसे हम Internet कहते हैं.

नेटवर्क के प्रकार – Type of Network in Hindi

सामान्यत computer Network के बहुत से प्रकार होते है. नेटवर्क को उनके आकार, भौगोलिक क्षेत्र और नेटवर्क में कितने Computer रह सकते हैं के अनुसार उन को विभाजित किया गया है.

एक Network दुनिया भर के Computers को अपने साथ जोड़ने की काबिलियत रखता है.

हिंदी में नेटवर्क के प्रकार-

सामान्य तौर पर तीन प्रकार के Network होते हैं
(1) LAN (2) MAN (3) WAN इनके अलावा और भी Networkहैं जैसे- PAN, HAN.

1. Personal Aera Network

एक नेटवर्क को व्यक्तिगत क्षेत्र नेटवर्क भी कहा जाता है. यह एक छोटा Network होता है जो कि घर तक सीमित रहता है. उदाहरण के अनुसार किसी मकान में PAN Network एक या एक से अधिक Computer जुड़े होते हैं.

2. Home Aera Network

यदि किसी विशेष स्थानीय निवास में जो व्यक्ति जिस नेटवर्क का उपयोग करता है उसे हम होम एरिया नेटवर्क कहते हैं. हम वायर के माध्यम से भी Internet का उपयोग कर सकते हैं जो कि एक मॉडेम के साथ जुड़ा रहता है.

Modem वायर और वायरलेस दोनों Network Connection प्रदान करता है. इस नेटवर्क पर भी आप सारे काम कर सकते हैं. Wifi भी एक प्रकार का Home Area Network है.

3. Local Area Network

LAN का अर्थ लोकल एरिया नेटवर्क है. इस तरह का Network आपको school, collage, बिजनेस ऑर्गेनाइजेशन में आपको देखने के लिए मिल जायेगा. इस प्रकार के नेटवर्क का उपयोग Data storage, डॉक्यूमेंट प्रिंटिंग आदि के लिए किया जाता है. इसको बनाने के लिए हमें Router, Network adapter, switch, Internet cable, hub आदि की Hardware की आवश्यकता होती है.

एक छोटा लोकल एरिया नेटवर्क बनाने के लिए दो computer की आवश्यकता होती है. Local Area Network में हम 1000 computer को एक साथ आपस में जोड़ सकते हैं.

इस तरह के नेटवर्क को ज्यादातर वायर कनेक्शन उपयोग में लिया जाता है. इसको वर्तमान में wireless मे भी उपयोग में लिया जाने लगा है. यह Network सस्ता व अच्छी fast speed वाला होता है.

4. Metropo Litan Area Network

मेट्रोपॉलिटन एरिया नेटवर्क को MAN Network भी कहा जाता है. यह नेटवर्क सभी शहरों को आपस में जोड़ने का कार्य करता है. यह एक शहर के बड़े सभी collage, Goverment office, school, संस्थान को जोड़ता है.

मेट्रोपॉलिटन एरिया नेटवर्क लोकल एरिया नेटवर्क से बड़ा होता है. MAN Network की Range 10 km से 100 km तक होती है. इस नेटवर्क का उपयोग बहुत से LAN को एक जगह जोड़कर बहुत बड़ा Network बनाने के लिए किया जाता है.

इसमें Network मे डाटा ट्रांसमिशन की गति मध्यम होती है.

5. Wide Area Network

MAN और LAN Network के बाद आने वाला यह वाइड एरिया नेटवर्क है. यह सबसे बड़ा नेटवर्क माना जाता है जो कि दुनिया के सभी computer को आपस में जोड़ता है. वाइड एरिया नेटवर्क( wide area network) को LAN व LANS भी कहा जाता है.

इस Network की खासियत कम डाटा दर और अधिक दूरी को कवर करता है.

WAN Network दो प्रकार के होते हैं-

(1) Enterprise WAN
(2) Global WAN

विस्तृत क्षेत्र नेटवर्क से जुड़े सभी कंप्यूटर ज्यादातर सार्वजनिक Network का उपयोग करते हैं. सबसे बड़ा WAN Internet है.

इसमें Network मे डाटा ट्रांसमिशन की गति धीमी होती है.

Network मे उपयोग किया जाने वाले Devices –

यदि एक नेटवर्क है तो उसमें बहुत सारे Device जुड़े रहते हैं. इनमें Data का आदान-प्रदान होता है. यह Network अलग अलग Computer से गुजरता है.

दो Network को LAN से आपस में जोड़ने के लिए कुछ Devices की आवश्यकता होती है जैसे- Router, Modem, Switch, HuB, Repeater, Bridge आदि.

1.Router

राउटर दो नेटवर्क के बीच मार्ग और यातायात को नियंत्रित नियंत्रण करना इसका काम है. यह दो Network को वायरलेस और वायर के माध्यम से जोड़ता है. Router डिवाइस OSI मॉडल की Network लेयर पर काम करता है.

2.Modem

जब हम अपने घर पर इंटरनेट का उपयोग करते हैं तो दुनिया के बाहर से हमारे कंप्यूटर में डाटा को पहुंचाने का कार्य करता है. इस मॉडेम के केबिलों में डाटा एनालॉग सिग्नल के रूप में पहचाना जाता है.

3.Switch

यह उपकरण HUB जैसी भौतिक परत पर काम करता है. Switch Device Hub से ज्यादा शक्तिशाली होता है. Hub डाटा को फॉरवर्ड करने का काम करता है. यह डाटा को forword के साथ Filter भी करने का कार्य करता है.

4.HUB

HUB एक साधारण Networking डिवाइस है. यह उपकरण फिजिकल लेयर पर काम करता है. यह Networking उपकरणों को शारीरिक रूप से जोड़ने का काम भी करता है.

5.Repeater

यह उपकरण सिग्नल की power को बढ़ाने में मदद करता है. यह एक इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस है जो सिग्नल को प्राप्त कर उसे Re-प्रसारित करता है. पुनरावृति संकेतों को खोने से बचाता है.

6.Bridge

जिस प्रकार Router दो भिन नेटवर्क को आपस में जोड़ता है उसी प्रकार यह दो ब्रिज Network को जोड़ने का काम करता है जो कि एक ही नेटवर्क के भाग होते

क्या सीखा ?

इस पोस्ट में हमारे द्वारा बताया गया है कि नेटवर्क क्या है-what is Network in Hindi? आपने net के बारे में विस्तार से जान लिया होगा.

हमें आशा है कि इस पोस्ट को पढ़ने से आपको इंटरनेट के बारे में पूरी जानकारी समझ में आ गई होगी. अब आपको network के उपयोग में कोई भी परेशानी नहीं होने वाली है.

आपसे एक उम्मीद है कि आप इस पोस्ट को अपने दोस्त, facebook, group और अन्य सभी मित्र और सोशल मीडिया पर शेयर कर उन तक पहुंचाएं.

यदि अगर आप कुछ भी बात और पहुंचना चाहते हैं तो हमें कमेंट के माध्यम से पूछ सकते हैं.

1 thought on “Network क्या है और इसके कितने प्रकार होते है ?”

Leave a Comment